Bhasha kise kahate hain भाषा किसे कहते हैं?

0
424
Bhasha kise kahate hain भाषा किसे कहते हैं?
Bhasha kise kahate hain भाषा किसे कहते हैं?

Bhasha kise kahate hain भाषा किसे कहते हैं?

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर से आपका स्वागत है इस आर्टिकल में हम जानेगे कि, भाषा किसे कहते हैं? (Bhasha kise kahate hain), भाषा के कितने रूप होते हैं bhasha ke kitne roop hote hain, मौखिक भाषा किसे कहते हैं उदाहरण सहित, लिखित भाषा किसे कहते हैं उदाहरण सहित, सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं? तो आइये जानते है:-

Bhasha, पारंपरिक बोली, मैनुअल (signed), या written symbols की एक प्रणाली, जिसके माध्यम से मनुष्य, एक सामाजिक समूह के सदस्य और इसकी संस्कृति में प्रतिभागियों के रूप में, खुद को व्यक्त करते हैं। भाषा के कार्यों में communication, the expression of identity, नाटक, imaginative expression, and emotional release शामिल हैं।

सरल शब्दों में अगर कहा जाये कि Bhasha kise kahate hain तो हम ये कह सकते है कि एक bhasha, मनुष्यों द्वारा उपयोग की जाने वाली संचार की एक संरचित प्रणाली है, जिसमें भाषण (बोली जाने वाली भाषा), इशारे (सांकेतिक भाषा) और लेखन शामिल हैं।

Bhasha kise kahate hain

जिस साधन के द्वारा मनुष्य अपने मन के भावों या विचारों को बोलकर, सुनकर, लिखकर या पढ़कर एक दूसरे के समक्ष प्रस्तुत करता है।अर्थात वह माध्यम जिसके जरिये हम अपने भावो को एक दुसरे को समझा सके अपने विचारो को व्यक्त कर सके उस माध्यम को ही भाषा कहा जाता है जैसे-हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू आदि।

Bhasha ke kitne roop hote hain भाषा के कितने रूप होते हैं?

भाषा के मुख्यतः 3 रूप होते हैं

  • मौखिक भाषा
  • लिखित भाषा
  • सांकेतिक भाषा
Bhasha ke kitne roop hote hain
Bhasha ke kitne roop hote hain

Mokhik bhasha kise kahate Hain मौखिक भाषा किसे कहते हैं उदाहरण सहित

भाषा का वह रूप जिसे बोला व सुना जाये वह मौखिक भाषा कहलाता है अर्थात जब हम बोलकर हमारे विचारो या भाव को व्यक्त करते है और सामने वाला सुनकर अपने विचार व्यक्त करता है उसे मौखिक भाषा कहा जाता है जैसे बातचीत करना, भाषण देना

मौखिक भाषा किसे कहते हैं उदाहरण

किसी विद्यालय में स्वंत्रता दिवस का आयोजन किया गया। आयोजन में विद्यालय के प्राचार्य ने स्वंत्रता दिवस पर भाषण दिया तथा अपने विचार व्यक्त किए तथा विधार्थियों ने सुनकर उनका आनंद उठाया। यह भाषा का मौखिक रूप है।
इसमें एक व्यक्ति बोलकर अपनी बात कहता है तथा दूसरा व्यक्ति सुनकर उसकी बात समझता है।
अथवा
जैसे नेता जी भाषण दे कर लोगो को संबोधित कर रहे है|

इस प्रकार, भाषा का वह रूप जिसमें एक व्यक्ति बोलता है तथा दूसरा व्यक्ति सुनता है और इस प्रकार विचरो का आदान-प्रदान कर एक दुसरे से बातचित कि जाती है, उसे ही मौखिक भाषा कहते है।

Likhit bhasha kise kahate Hain लिखित भाषा किसे कहते हैं उदाहरण सहित

भाषा का वह रूप जिसे लिखा व पढ़ा जाये वह लिखित भाषा कहलाता है अर्थात जब हम लिखकर हमारे विचारो या भाव को व्यक्त करते है और सामने वाला उसे पढ़कर फिर अपने विचार व्यक्त करता है उसे लिखित भाषा कहा जाता है जैसे पत्र लिखना, message भेजना, परीक्षा देना ,समाचार-पत्र, कहानी, जीवनी, संस्मरण आदि

लिखित भाषा किसे कहते हैं उदाहरण

लिखित भाषा का सबसे अच्छा उदाहरण है आप और में जैसे मैंने ये आर्टिकल लिखा और आप इसको पढ़ रहे है लिखित भाषा में एक व्यक्ति लिखता है तथा दूसरा व्यक्ति पढता है। यह भाषा का लिखित रूप है।
इसमें एक व्यक्ति लिखकर अपनी बात वयक्त करता है तथा दूसरा व्यक्ति पढ़कर उसकी बात समझता है।
अथवा
जैसे किसी से whatsapp पे Chat करना , message करना exam देना ये सभी लिखित भाषा के उदाहरण ही है

इस प्रकार, भाषा का वह रूप जिसमें एक व्यक्ति लिखता है तथा दूसरा व्यक्ति पढता है और इस प्रकार विचरो का आदान-प्रदान कर एक दुसरे से बातचित कि जाती है, उसे ही लिखित भाषा कहते है।

यह भी जाने :- Sangya kise kahate hain / संज्ञा किसे कहते है?

लिखित भाषा की कुछ विशेषताएँ निम्न प्रकार हैं-

(1) लिखित भाषा, भाषा का स्थायी रूप होता है।
(2) लिखित भाषा में हम अपने भावों और विचारों को हमेशा के लिए सुरक्षित रख सकते हैं।
(3) लिखित भाषा में वक्ता और श्रोता आमने-सामने हों ऐसा जरुरी नहीं होता

सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं?

भाषा का वह रूप जिसमें संकेतो द्वारा विचारो का आदान प्रदान किया जाता है वह सांकेतिक भाषा कहलाता है अर्थात जब इशारो (संकेतो) के द्वारा हमारे विचारो या भाव को व्यक्त करते है उसे सांकेतिक भाषा कहा जाता है जैसे चौराहे पर खड़ा यातायात सिपाही आदि

सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं? उदाहरण

सांकेतिक भाषा का सबसे अच्छा उदाहरण है Traffic Signal, जैसे Signal पर लाल लाइट जलते ही सारी गाडियों का रुक जाना तथा हरी लाइट होते ही गाडियों का चला जाना यह भाषा का सांकेतिक रूप है। इसमें बोला या लिखा या सुना या पढ़ा नही जाता इसमें इशारो या संकेत में ही समझा दिया जाता है

इस article में हमने Bhasha kise kahate hain, bhasha ke kitne roop hote hain, मौखिक भाषा किसे कहते हैं उदाहरण सहित, लिखित भाषा किसे कहते हैं उदाहरण सहित, सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं आदि के बारे में जाना |

तो दोस्तो ये था हमारा आज का article Bhasha kise kahate hain जिसमें हमने मौखिक भाषा ,लिखित भाषा , सांकेतिक भाषा के बारे में उदाहरण के साथ जानकारी प्राप्त कि अगर आपको हमारे इस article Bhasha kise kahate hain ( भाषा किसे कहते हैं? ) से संबंधित कोई भी परेशानी या सुझाव है तो आप बेझिझक हमसे संपर्क कर सकते है या आप Bhasha kise kahate hain के इस पोस्ट पर कॉमेंट भी कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here