[2021] DNA Full Form In Hindi डीएनए (DNA) का मतलब क्या होता है पूरी जानकारी

0
103
DNA Full Form In Hindi
DNA Full Form In Hindi

DNA Ka Full Form in Hindi, DNA Full Form, डीएनए (DNA) का मतलब क्या होता है, DNA Ka Full Form in Hindi, डीएनए का फुल फॉर्म क्या है, Full Form of DNA in Hindi, डीएनए फुल फॉर्म इन मेडिकल, dna full form in medical in hindi,डीएनए का मतलब क्या होता है?, डीएनए का प्रमुख कार्य क्या है?, डीएनए का निर्माण कौन करता है?, डी एन ए का फुल फॉर्म क्या है?, डीएनए (DNA) का मतलब क्या होता है, ‎डीएनए का फुल फॉर्म , ‎डीएनए के प्रकार, Types of DNA, DNA full form in English and Hindi, डी एन ए का पूरा नाम

आज का युग विज्ञानं का युग है और समय के साथ साथ विज्ञानं बहुत ही तेजी से उन्नति करता जा रहा है जिससे मुश्किल से मुश्किल समस्या का आसानी से निवारण किया जा सकता है जैसे जैसे विज्ञानं तरक्की करता गया ये सभी बारीक़ से बारीक़ चीजो पर खोज करता गया आज के समय में विज्ञानं ने अन्तरिक्ष से लेकर स्वास्थ के क्षेत्र में बड़ी बड़ी उपलब्धिया हासिल कर ली है स्वास्थ्य के क्षेत्र में विज्ञानं ने DNA की खोज की है इसके द्वारा मानव स्वास्थ्य के क्षेत्र ने विज्ञानं ने कई जटिल समस्याओं को दूर कर दिया है।

विज्ञान में आपने DNA के बारे में पढ़ा ही होगा या नहीं भी पढ़ा हो लेकिन कही ना कही DNA Word तो सुना ही होगा क्यों की यह Word बहुत जगह बहुत बार सुनने को मिलता है लेकिन अधिकतर लोगो को डीएनए के बारे में जानकारी नहीं होती है की DNA क्या है और DNA full form in hindi क्या होता है।

DNA मनुष्य के शारीर में मोजूद सबसे अहम् अणुओं में से एक होता है जिसके बारे में अक्सर आपने TV या समाचार पत्र में देखा या पढ़ा होगा DNA क्या है?, इसका निर्माण कैसे होता है?, DNA का पूरा नाम क्या है?, डीएनए का प्रमुख कार्य क्या है? इन सभी सवालों के उत्तर आपको हम इस आर्टिकल में देने जा रहे है तो चलिए शुरू करते है:-

DNA क्या है – डीएनए का फुल फॉर्म

DNA Full Form In Hindi

DNA का फुल फॉर्म “Dioxyribo Nucleic Acid” होता है जिसको हिंदी भाषा में “डीऑक्सीराइबोज न्यूक्लिक अम्ल” कहा जाता है यह तंतुनुमा अणु होते है जो जिन्दा कोशिकाओ के गुणसूत्र में होते है DNA जीवित कोशिकाओ में पाए जाते है अर्थात DNA का सम्बन्ध जीवित कोशिकाओ से होता है।

D:- Dioxyribo
N:- Nucleic
A:- Acid

डीएनए का मतलब क्या होता है DNA क्या है और कहाँ पाया जाता है

DNA Full Form मतलब डीएनए का पूरा नाम डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक अम्ल होता है DNA का अणु 4 वस्तुओ से निर्मित होता है ग्वानिन, ऐडेनिन, थाइमिन और साइटोसिन। और इन अणुओं की सरचना एक घुमावदार सीडी की तरह होती है इसे 3D सरचना के द्वारा स्पष्ट तरह से देखा जा सकता है DNA मनुष्य के पुरे शारीर की हर एक कोशिका में पाया जाता है जैसे हाथ, पैर, आँख आदि यह सभी अंग की कोशिका के केन्द्रक के अंदर पाया जाता है।

DNA का निर्माण 2 फिलामेंट की मदद से किया जाता है इसकी सरचना इन्ही फिलामेंट के द्वारा होती है यह दोनों फिलामेंट ही चारो और से लहरदार सरचना का निर्माण करते है और इसी घुमावदार सीडी की तरह सरचना को ही DNA कहा जाता है।

DNA के बारे में जानकारी

जे. डी. वाटसन और क्रिक नाम के 2 वैज्ञानिको ने सन 1953 में DNA की Double Helix Model दिया इसके लिए उन्हें सन 1962 में नोबल पुरुस्कार से सम्मानितभी किया गया था।

DNA एक न्यूक्लिक असिड होता है जिसके अंतर्गत सभी जीवित प्राणियों के विकास के निर्देश पाए जाते है सभी जीवित प्राणियों यहाँ तक की एक वायरस में भी DNA पाया जाता है।

सरल शब्दों में कहा जाये तो DNA किसी प्राणी के शरीर में मौजूद एक जेनेटिक कोड होता है जिसके मदद से मनुष्य के शरीर की सभी विशेषताओं को निर्धारित किया जा सकता है।

आपके शारीर में DNA ही एक ऐसी चीज होती है जिससे यह पता लगाया जन्सकता है की आप कोन है आपकी पहचान क्या है आपके माता पिता कौन है जब एक बच्चा पैदा होता है तो उसके माता पिता का डीएनए उस बच्चे में भी आ जाता है इसी प्रक्रिया को Hereditary Material अर्थात एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में सूचना पहुंचना कहा जाता हैं।

इसलिए यदि किसी भी व्यक्ति के डीएनए से यह पता लगाया जा सकता है की उसके माता पिता कौन है और इसी प्रकार मनुष्य पशु पक्षी आदि जितने भी जीवित प्राणी है उन सभी में DNA पाया जाता है मनुष्य का शारीर अणुओ से मिलकर बना होता है प्रत्येक मनुष्य में कोई एक विशेष डीएनए नहीं होता है प्रत्येक प्राणी में अलग अलग डीएनए पाया जाता है इसलिए इसका उपयोग कई बार आपराधिक गतिविधियों में साबुत प्राप्त करने के लिए भी किया जाता है।

DNA में आनिवांशिक गुणों की जानकारी भी होती है डीएनए की सहायता से ही अनिवांशिक बीमारियों का पता भी लगाया जा सकता है और यह सुनिश्चित किया जा सकता है की आने वाले समय में कौनसी बीमारी होगी DNA से ही आखो का और बालो का रंग भी सुनिश्चित किया जा सकता है।

DNA Test मनुष्यों के खून के सेम्पल, बालो, मूत्र के सेम्पल गल के अंदर की कोशिकाए, त्वचा आदि की मदद से किया जा सकता है इस सेम्पल की सहायता से मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाए DNA की जाँच करती है और सैंपल लेने के बाद जाँच कर के रिपोर्ट सामान्यतः 10 से 20 दिन के अंदर अंदर दे दी जाती है आज के समय में विज्ञानं में 1200 तरह की DNA जाँच उपलब्ध है।

यह भी पढ़े:- RNA Full Form In Hindi | RNA Kya hai पूरी जानकारी

DNA के प्रमुख कार्य – Works of DNA

  • DNA पीढ़ी दर पीढ़ी स्थानांतरित होता रहता है अर्थात यह एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाता है तो इसके द्वारा ही पीढ़ी में होने वाले परिवर्तन के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है।
  • DNA मानव शारीर में सभी अनुवांशिक कार्यो का सञ्चालन भी करता है।
  • DNA शारीर में प्रोटीन संस्लेषण को भी नियंत्रित करता है जैसे की शारीर में प्रोटीन का निर्माण होना चाहिये या नहीं होना चाहिये।
  • मनुष्य के खून की जाच करने के लिए भी DNA का उपयोग किया जाता है तथा मूत्र के सेम्पल की जाँच के लिए भी DNA का उपयोग किया जाता है।
  • डेली हमारे शरीर में 1 हजार से लेकर 1 लाख DNA नष्ट होते है तथा वापस बनते रहते है यह प्रक्रिया तब तक चलती रहती है जब तक मनुष्य जिन्दा रहता है।

यह भी पढ़े:- [2021] ADCA Full Form – ADCA कोर्स क्या है

DNA के प्रकार – Types of DNA

जीवो में 3 प्रकार के DNA पाए जाते है जो निम्न है।

A- DNA
B- DNA
Z- DNA

  • A- DNA

A- DNA में दोनों साइड के फिलामेंट्स छोटे, चौड़े और छोटे छोटे बने होते है इसमें 10.9/11 क्षार युग्म पाए जाते है।

  • B- DNA

इस प्रकार के डीएनए में दोनों साइड के फिलामेंट्स पतले और लम्बे होते है इसकी खाच गहरी तथा उथली हुए होती थी इसमें 10.9/11 क्षार युग्म पाए जाते है।

  • Z- DNA

इस प्रकार के DNA में दोनों साइड के फिलामेंट्स पतले और लंबे होते हैं, परन्तु इसमें खांचे केवल गहरी होती है इसमें 12 क्षार युग्म पाए जाते है।

DNA और RNA में अंतर
DNA और RNA में अंतर

DNA और RNA में अंतर – Difference Between DNA and RNA

  • DNA न्यूक्लिओटाइड की Double Stranded अणु होते है जबकि RNA Single Stranded अणु होते है।
  • DNA खुद से प्रकट होता है जबकि RNA को जरुरत पड़ने पर DNA से निकाला जा सकता है।
  • DNA अल्ट्रावायलेट UV किरणों से क्षतिग्रस्त होता है जबकि RNA पर UV किरणों का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • DNA में शुगर डी ऑक्सी राइबो पाया जाता है जबकि RNA में शुगर राइबो होता है।
  • DNA की मात्र शारीर में हर कोशिका के लिए fix होती है जबकि RNA की मात्र कम ज्यादा हो सकती है।
  • DNA कोशिकाओ के केंद्र में और पौधों की माइटोकॉण्ड्रिआ में पाया जाता है वही RNA कोशिकाओ के कोशिका द्रव्य में पाया जाता है। यह कोशिका के नाभिक में बहुत कम पाया जाता है।
  • DNA एक अनुवांशिक पदार्थ होता है जिसका मुख्य कार्य शारीर की क्रियाओ को नियंत्रित करना होता है इसलिए किसी भी प्राणी के शारीर में DNA सबसे महत्वपूर्ण तत्व होता है। जबकि RNA प्राणी के शारीर में अनुवांशिक सुचना का वाहक होता है यह शारीर में क्रोमोजोम्स के लिए प्रोटीन संस्लेषण में योगदान करता है।

यह भी पढ़े:- IB Full Form In Hindi जानिये आईबी कि पूरी जानकारी

Conclusion :-

तो दोस्तों ये था आज का हमारा article जिसमे हमने आपको DNA Full Form In Hindi और DNA के बारे में जानकारी हिंदी में दी

अगर आपने ये article पूरा पढ़ा है तो आपको DNA ka Full Form के बारे में जानकारी हिंदी में मिल गयी होगी और उम्मीद करता हूँ आपके ये article पसंद आया होगा

अगर आपको हमारे इस article DNA का फुल फॉर्म संबंधित कोई भी परेशानी या सुझाव है तो आप बेझिझक हमसे संपर्क कर सकते है या आप इस पोस्ट पर कमेंट भी कर सकते है।

दोस्तों अगर आपको हमारा ये article DNA Full Form in Hindi पसंद आया हो तो इसे दोस्तो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here