Sangya kise kahate hain / संज्ञा किसे कहते है?

0
2027
Sangya kise kahate hain
Sangya kise kahate hain

Sangya kise kahate hain संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद या संज्ञा के प्रकार :-

Sangya kise kahate hain: संज्ञा उस शब्द को कहते हैं जो किसी वस्तु , व्यक्ति , प्राणी , स्थान के नाम को बताता हो उसे संज्ञा कहा जाता है। जैसे :
वस्तुओं के नाम : कुर्सी , कलम , मोबाइल आदि
व्यक्तियों के नाम : गांधीजी , विराट कोहली , अब्दुल कलम आदि
प्राणियों के नाम : कुता , बिल्ली , चिड़िया
स्थानों के नाम : पटना , दरभंगा , मुंबई आदि
गुणों के नाम : ईमानदारी , सच्चाई , धोकेबाज आदि
भावों के नाम : खुशी , दया , ईर्ष्या आदि

हिंदी व्याकरण में किसी वस्तु , व्यक्ति , प्राणी , स्थान , गुण के नाम को ही संज्ञा कहा जाता है। इसे और अच्छे से जानने और समझने के लिए आइये इसे कुछ वाक्यों के उदाहरण द्वारा समझने कि कोशिश करते है:-
” राम ” खाना खा रहा है = राम एक व्यक्ति का नाम है।

“सेब” मिठा है = सेब फल का नाम है।

“गाय” चारा खा रही है = गाय एक पशु का नाम है।

“श्याम” कार से “दिल्ली” जाएगा = यहाँ श्याम एक व्यक्ति का नाम है और दिल्ली एक जगह का नाम है

ये सभी (राम, सेब, गाय) किसी न किसी नाम का बोध कर रहे है अतः जो शब्द किसी के नाम का बोध करते है वह संज्ञा कहलाता है।

Sangya kise kahate hain संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद या संज्ञा के प्रकार :-

Sangya kise kahate hain संज्ञा किसे कहते है? संज्ञा की परिभाषा

हिंदी व्याकरण में “किसी व्यक्ति,वस्तु विशेष,प्राणी, गुण,भावों या स्थान के नाम को संज्ञा कहा जाता है”

Sangya kise kahate hain संज्ञा के भेद या संज्ञा के प्रकार :-

संज्ञा के भेद हिंदी व्याकरण में संज्ञा के मुख्यतः पांच भेद हैं ।

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा (Proper Noun)
  2. जातिवाचक संज्ञा (Common Noun)
  3. भाववाचक संज्ञा (Abstract Noun)
  4. समूहवाचक संज्ञा (Collective Noun)
  5. द्रव्यवाचक संज्ञा (Meterial Noun)
संज्ञा के भेद
संज्ञा के भेद
  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा (Proper Noun) : संज्ञा जिससे किसी एक वस्तु या व्यक्ति का बोध होता है उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहा जाता हैं ।
    जैसे : राम , श्याम ,सीता ,गीता, गंगा काशी इत्यादि |राम , श्याम ,सीता ,गीता कहने से एक व्यक्ति का गंगा कहने से एक नदी का , और काशी कहने से एक नगर के नाम का बोध होता है ।
    व्यक्तिवाचक संज्ञा हिंदी में लिखित रूप में होती है
    व्यक्तियों के नाम : राम , श्याम ,सीता ,गीता आदि
    दिशाओं के नाम : उत्तर , पश्चिम , दक्षिण , आदि
    देशों के नाम भारत ,अमेरिका ,ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका, आदि
    नदियों के नाम : गंगा, यमुना, सरस्वती , ब्रह्मपुत्र , आदि
    पर्वतों के नाम : हिमालय , कराकोरम , आदि
    नगरो , चौक और सड़कों के नाम : गया , चांदनी चौक , पटना , आदि
    पुस्तकों तथा समाचार पत्रों के नाम : इंडियन नेशन , रेनबो , आदि
    एतिहासिक युदध और घटनाओं के नाम : पानीपत की पहली लड़ाई , अक्टूबर क्रांति , आदि
    दिनों , महीनों के नाम : अक्टूबर , जुलाई , सोमवार , मंगलवार आदि
    त्योहारों के नाम : दीपावली . रक्षाबंधन , ईद आदि

2. जातिवाचक संज्ञा (Common Noun) :संज्ञा जिससे किसी एक ही प्रकार की वस्तु अथवा व्यक्ति का बोध होता है , उन्हें जातिवाचक संज्ञा कहा जाता हैं । जैसे : मनुष्य , घर , पहाड , नदी , आदि | मनुष्य कहने से संसार की मनुष्य जाति का , घर कहने से सभी तरह के घरों का , पहाइ कहने से संसार के सभी पहाड़ों का , और नदी कहने से सभी प्रकार की नदियों के जातिगत बोध होते हैं ।

3. भाववाचक संज्ञा (Abstract Noun): भाववाचक संज्ञा ऐसी संज्ञा होती है जिससे किसी व्यक्ति या वस्तु के गुण – दोष , दशा का बोध होता है उसे भाववाचक संज्ञा कहा जाता हैं । जैसे लंबाई , बुढ़ापा , मिठास , समझ , आदि

4. समूहवाचक संज्ञा (Collective Noun): समूहवाचक संज्ञा ऐसी संज्ञा होती है जिससे किसी वस्तु अथवा व्यक्ति के समूह का बोध होता हो उसे समूहवाचक संज्ञा कहा जाता हैं। जैसे : व्यक्तियों का समूह– सभा , दल , गिरोह , आदि वस्तुओं का समूह- गुच्छा , कंज , मंडल , आदि

5. द्रव्यवाचक संज्ञा (Meterial Noun): द्रव्यवाचक संज्ञा ऐसी संज्ञा होती है जिस संज्ञा से नाप – तौल वाली वस्तुओं का बोध हो उसे द्रव्यवाचक संज्ञा कहा जाता हैं। इस संज्ञा का सामान्यतः बहुवचन नहीं होते हैं । जैसे : लोहा , सोना , चांदी , दूध , पानी , तेल , तेजाब , इत्यादि

संज्ञा की पहचान क्या होती है ? ( Sangya ki pehchan kya hai )

Sangya kise kahate hain (संज्ञा किसे कहते है?) संज्ञा की पहचान :-

कुछ शब्द प्राणीवाचक संज्ञा शब्द होते है , तो कुछ शब्द अप्राणिवाचक संज्ञा शब्द होते है। कुछ शब्द गणनीय संज्ञा शब्द होते है तो कुछ शब्द अगणनीय संज्ञा शब्द होते है ।
प्राणीवाचक संज्ञा शब्द – praniwachak Sangya

ऐसे शब्द जिससे किसी सजीव वस्तु का बोध होता हो अर्थात जिसमे प्राण होते है उसे प्राणीवाचक संज्ञा शब्द कहा जाता है जैसे –

  • लड़का
  • गाय
  • रमेश
  • चिड़िया आदि

आदि उपरोक्त सभी संज्ञा में प्राण होते है अर्थात ये सभी सजीव वस्तु है इस कारण यह प्राणीवाचक संज्ञा कहलाते है।

अप्राणिवाचक संज्ञा शब्द – apraniwachak Sangya

ऐसे शब्द जिससे किसी निर्जीव वस्तु का बोध होता हो अर्थात जिसमे प्राण नहीं होते है उसे अप्राणीवाचक संज्ञा शब्द कहा जाता है जैसे –

  • मेज
  • रेलगाडी
  • मकान
  • पुस्तक
  • पर्वत आदि

उपरोक्त शब्दों में प्राण नहीं हैअत: ये सभी निर्जीव वस्तुवे है। इस कारण यह अप्राणीवाचक संज्ञा कहलाते है।

गणनीय संज्ञा शब्द – Ganniya Sangya

ऐसे शब्द जिनकी गणना की जा सकती है अर्थात व्यक्ति , वस्तु , पदार्थ आदि को गिना जा सकता है उनकी संख्या को गिना जा सकता है अतः वह शब्द गणनीय sangya कहलायेगा। जैसे –

  • लड़का
  • पुस्तक
  • भवन
  • गाय
  • केले आदि

अगणनीय संज्ञा शब्द – Aganniya Sangya

ऐसे शब्द जिनकी गणना नहीं की जा सकती है अर्थात दूध, पानी, हवाआदि को गिना नही जा सकता है उनकी संख्या को गिना नहीं जा सकता है अतः वह शब्दअगणनीय संज्ञा sangya कहलायेगा। जैसे –

  • दूध
  • पानी
  • हवा
  • मित्रता आदि

इस article में हमने Sangya kise kahate hain संज्ञा के भेद संज्ञा के प्रकार आदि के बारे में जाना |

तो दोस्तो ये था हमारा आज का article sangya kise kahate hain जिसमें हमने संज्ञा किसे कहते है? संज्ञा की परिभाषा और संज्ञा के भेद/ प्रकार के बारे में उदाहरण के साथ जानकारी प्राप्त कि अगर आपको हमारे इस article sangya kise kahate hain (संज्ञा किसे कहते है) से संबंधित कोई भी परेशानी या सुझाव है तो आप बेझिझक हमसे संपर्क कर सकते है या आप Sangya kise kahate hain के इस पोस्ट पर कॉमेंट भी कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here