मैं अटल हूं: 5 शानदार सीन देखे बिना अधूरी राह का सफर!

Moni

मैं अटल हूं फिल्म समीक्षा : देशप्रेम की आग और राजनीति के पचड़े में उलझी ये कहानी सिर्फ फिल्म नहीं, एक भावना है। “मैं अटल हूं समीक्षा“हर किसी ने दिल जीत लिया है, लेकिन अगर आपको कुछ बेहद खास दोस्त याद आते हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए है! यहां पर हैं वो 5 बेहतरीन सीन, जिन्हें देखने के बाद आप भी देखेंगे – “वाह! ये तो कमाल कर दिया!” भाई पंकज त्रिमूर्ति के अभिनय के तो क्या ही कलाकार हैं और उनकी यह नई फिल्म मैं अटल हूं सिनेमाघर में काफी कमाल मचा रही है, ऐसे में अगर आपने फिल्म देखी है या आप फिल्म देखने वाले हैं तो हम आपको आज के कुछ ऐसे सीन के बारे में बताएंगे। जानकारी देने वाले हैं जो आपके दिल को छू लेंगे, तो पढ़ना शुरू कर देंगे अपनी इस फिल्मी यात्रा को |

1. अटल जी का पहला भाषण: जिस पल देश के युवाओं को जगाने के लिए एक शिक्षक अपने क्लास रूम से देश की राजनीति में कदम रखता है, वही पल रोंगटे तय कर देता है। अटल जी के पहले भाषण में उनके दर्शन, मंत्र और शब्दों का जादू देखने को मिलता है। यह आपको पूरी तरह से रोमांचित कर देगा और आपको सेबैम्प्स ले लेगा |

2. सरकार! ये वक्त मौन रहने का नहीं है…: आख़िरकार अंधेरे दौर में जब आवाज़ की कोशिश हो रही थी, तब संसद के पटल पर अटल जी का ये तूफान स्मारक था। विरोध के समर्थक और लोकतंत्र की ताकत, यही एक सीन में बनी है।

3. पोखरण टेस्ट की घोषणा: जब परमाणु परीक्षण की सफलता की गूंज पूरे देश में गूंजी, उस पल का एहसास फिल्म में गूंजा हुआ है। राष्ट्रीय गौरव, आत्मनिर्भरता और वैज्ञानिक उपलब्धि का ये मिश्रण सहरान पैदा करता है। यह सीन पुर फिल्म की रीड की हड्डी कही जाती है इस सीन को अगर आपने मिस कर दिया तो पूरी फिल्म आपकी मिस हो गई है |

4. लाहौर बस यात्रा : दुश्मनों के घर, पाकिस्तान में कदम रखना किसी भी चुनौती से कम नहीं है। लाहौर की गैलरी से अटलांटिक बस में अटल जी का संवाद और वहां के लोगों की प्रतिक्रिया देखकर आपको राजनीति से ऊपर का एक मानवीय संबंध महसूस होगा।

5. अंतिम भाषण: “मैं अटल हूँ…”: जिंदगी की पटवारियां, संघर्षों से टकराते हुए एक खास कहानी अपनी सुनाता है। अंतिम प्रवचन में अटल जी का जीवन दर्शन, उनके अनुभव और उनके आदिग विश्वास का सार शामिल है।

मैं अटल हूं फिल्म समीक्षा ये पांच सीन हैं, लेकिन “मैं अटल हूं रिव्यू” में ऐसे कई पल हैं जो आपको देखेंगे, महसूस करेंगे और प्रेरित करने का काम करेंगे। तो अगर आपने अभी तक ये फिल्म नहीं देखी है, तो ये सीन देखने के लिए जरूर जाएं और अगर देखा है, तो ये आप फिर से सिनेमा हॉल में खींच लाएंगे!

तो दोस्तों आज का यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं |

#मैंअटलहून #जरूरदेखें #अटलबिहारीवाजपेयी #इंडियनसिनेमा #प्रेरणादायक

Leave a Comment