राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना 2024 अंतरजातीय विवाह करने पर मिलेंगे 10 लाख रुपए

Moni

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना :- नमस्कार दोस्तों मैं आप सभी का स्वागत करता हूं कि आप सभी को आज ही बताएं कि हमारे समाज में इंटरनैशनल कलाकारों का विरोध जारी है, लेकिन सरकार के विभिन्न कार्यकर्ताओं द्वारा आसपास के लोगों को चोट पहुंचाने के लिए सामाजिक समूह के सदस्यों द्वारा विरोध किया जा रहा है। जा रहे हैं ताकि अंतरजातीय विवाह का भेदभाव खत्म हो सके और इसी दिशा में राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल के द्वारा एक नई योजना शुरू की जा रही है। इस योजना का नाम राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना है। इस योजना के अंतर्गत राजस्थान के नागरिकों को अंसर जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना पर सरकार द्वारा प्रोत्साहन राशि दी जाएगी यदि आप राजस्थान के नागरिकों से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तो आप हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें क्योंकि आज हम अपने इस लेख के माध्यम से आपको राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत प्रोत्साहन राशि के लिए आवेदन करना चाहते हैं, इसके लिए क्या-क्या लाभ है, इसके लिए पात्रता क्या है, आवेदन की प्रक्रिया क्या है? सभी जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना 2024

राजस्थान सरकार के द्वारा इंटर जातीय विवाह करने की शुरुआत राज्य सरकार के इंटर जाति स्टैच्यू द्वारा की गई 10 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि को प्राप्त करने के लिए जोरो कार्तिक सहायता द्वारा प्राप्त कर सके और जनता को विवाह करने वाली लड़का और लड़की अपने जीवन बीमा की किसी भी समस्या के कारण से कर सकते हैं परेशान राशि का लाभ प्राप्त करने के लिए विवाह को जोड़ने पर 1 महीने के अंदर आवेदन करना होगा तभी उसकी इस योजना का लाभ होगा।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना योजना प्रतिमाह जाति वर्ग के युवा वर्ग को जो कोई स्वर्ण हिंदू युवा या हिंदू ईसाई से विवाह करता है उसे इस योजना का लाभ प्राप्त होगा राजस्थान इंटरनैशनल स्टाइब का लक्ष्य किसी अन्य जाति धर्म में विवाह करने को प्रोत्साहन देना और समाज में लोगों की पहचान को बरकरार रखना है।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना की मुख्य विशेषताएं

योजना का नाम राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना
संबंधित विभाग सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, राजस्थान
दीक्षा वर्ष 2017
लाभार्थी जोड़े अंतरजातीय विवाह का विकल्प चुन रहे हैं
उद्देश्य अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहित करें और सामाजिक कलंक को खत्म करें
प्रोत्साहन राशि ₹10 लाख
राज्य राजस्थान Rajasthan
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन ऑफ़लाइन
आधिकारिक वेबसाइट sjmsnew.rajasthan.gov.in

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का उद्देश्य

राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का मुख्य उद्देश्य या इसके तहत विवाह को बढ़ावा देना और अंतरजातीय विवाह को लेकर समाज में शामिल होना, जो इस योजना के तहत इस योजना के तहत किसी भी अन्य धर्म जाति में शामिल होना है। विवाह करने पर सरकार के द्वारा 10 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी जिससे राज्य के युवा और बिना किसी भेदभाव के अपनी पसंद के जीवन साथी को चुन सकते हैं। जयपुर चांद से सिंहला इंडियन के बैंक अकाउंट में 1 साल के अंदर शादी की चोरी की जानकारी दी जाएगी।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना के तहत मिलन वाली राशि

  • डॉक्टर सविता बेन कॉमनवेल्थ योजना के अंतर्गत अंतरजातीय विवाह करने पर पति भक्त को 10 लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।
  • इस योजना के तहत 5 लाख रुपये पति पत्नी के नाम पर 8 साल के लिए फिक्स्ड टेक्नॉलजी में जाएं।
  • बाकी बच्चे 5 लाख रुपये पति-पत्नी के ज्वाइंट बैंक के खाते में जमा कर देंगे जिससे कि वेद जोड़ी अपनी जरूरत और घरेलू सामान खरीद सकती है।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • राजस्थान सरकार द्वारा अंतरजातीय विवाह प्राप्त करने पर विवाद जोड़ों को 10 लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।
  • आर्थिक सहायता राशी श्रीदेवी व्हाइट जॉड के बैंक में वैध की जाएगी।
  • अगर कोई लड़का या लड़की इस योजना के तहत दूसरी जाति में शादी करते हैं तो इस योजना का लाभ प्राप्त होगा।
  • इस योजना के माध्यम से संत जाति विवाह पर रोक लगाने के कारण घर से मिलने वाले जोरो को सरकार द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाएगी।
  • राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना के अंतर्गत अंतर्जातीय विवाह करने वाले जोड़ों को एक मस्त राशि का ला प्राप्त होगा जिससे उन्हें अपना जीवन यापन करने में सहायता प्राप्त होगी।
  • समाज में प्रथम अंतरजातीय विभाग को लेकर व्यापक कुर्तियां नष्ट करके समाज में सद्भावना की भावना का जन्म होगा।
  • राजस्थान जनजाति विवाह प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत प्रोत्साहन राशि प्राप्त नए करों को अपने घर से आसानी से बताएं।
  • अपनी पसंद के जीवन दोस्त के साथ-साथ शादी करना इस बात को राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के माध्यम से बढ़ावा मिलेगा।
  • युवाओं के दबाव में शादी करने के कारण हो रहे अपराध को इस योजना के तहत खरीदा जा सकता है।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना की पात्रता

  • राजस्थान अंतरजाती विवाह प्रोत्साहन योजना के लिए राजस्थान का निवासी होना चाहिए।
  • अभ्यर्थी की आयु 35 वर्ष से अधिक नहीं होना चाहिए उम्मीदवार के पास विवाह प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।
  • इस योजना के तहत आवेदन करने वाले के ऊपर किसी भी प्रकार का कोई भी आपराधिक मामला दर्ज नहीं होगा।
  • राजस्थान इंटर कास्ट विवाह योजना का लाभ पाने के लिए पति पत्नी की वार्षिक आय 2.5 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • पहली बार अंतरजातीय विवाह करने पर पति-पत्नी इस योजना के पात्र बनेंगे।
  • विवाह होने की 1 वर्ष के अंदर ही राजस्थान में जाति विवाह योजना का लाभ ऑनलाइन आवेदन करने से प्राप्त होगा।

राजस्थान अंतरजाती विभाग प्रोत्साहन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र का विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • न्यायालय प्रमाण पत्र
  • दुल्हन जोड़े की संयुक्त फोटो
  • हाई स्कूल की मार्कशीट अगर हो तो

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको सामाजिक न्याय एवं लोकतंत्र विभाग या जिला अधिकारी कार्यालय जाना होगा।
  • पर्यटकों के लिए आपके कार्यालय के अधिकारी से राजस्थान इंटरनैशनल कास्ट स्कोप के अंतर्गत आवेदन प्रपत्र प्राप्त करना होगा।
  • आवेदन फॉर्म प्राप्त करने के बाद आपसे फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारियों पर ध्यान देते हुए इसे दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको आवेदन फॉर्म की जांच करनी होगी।
  • यह आवेदन पत्र विक्रेता सामाजिक न्याय संरक्षण विभाग कार्यालय या जिला अधिकारी के कार्यालय में जमा कर दें।
  • यदि आप इस योजना के अंतर्गत पात्र जाते हैं तो आप राजस्थान इंटर कास्ट विवाह योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको SJMS पोर्टल की जानकारी मिलेगी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
  • इसके बाद आपकी इस वेबसाइट का होम पेज सामने आया।
  • अब आपको एसएसओ पोर्टल पर नए एकल ऑनलाइन साइन इन करने के लिए दिखाई देने वाले स्थान पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपका नया पेज सामने आया।
  • यहां से आप जन आधार, भामाशाह, फेसबुक, गूगल इनमें से किसी एक माध्यम से लॉगिन करना है।
  • लॉगिन करने के बाद आपको उपयोगिता के स्थान पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको एडवांस सर्च के पद पर क्लिक करना होगा। उपयोगिता सामाजिक न्याय एवं सुधार विभाग एवं डॉक्टर सियाबम अंतरजातीय विवाह का चयन करना है।
  • इसके बाद आपको एक नए पेज पर आवेदन पत्र के नामांकन पर क्लिक करना होगा।
  • आपके सामने आवेदन फॉर्म फ़ॉर्म फ़र्क पर तुरंत क्लिक करें।
  • इस एप्लिकेशन फॉर्म में मांगी गई सभी आवश्यक जानकारी पर ध्यान दें, दर्ज करें।
  • इसके बाद आपसे आवेदन पत्र में मांगे गए दस्ताना को अपलोड करना होगा।
  • विवाह का प्रमाण पत्र पति-पत्नी का शपथ पत्र जिला प्रमाण पत्र जाति प्रमाण पत्र पति-पत्नी का शपथ पत्र अन्य।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आप सबमिट के पद पर क्लिक करें।
  • इस प्रकार से आपकी राजस्थान इंटर कास्ट विवाह योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया पूरी होगी।

सारांश (सारांश)

तो दोस्तों आपको कैसी लगी राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना इस विषय में जानकारी के लिए हमें कमेंट बॉक्स में न बताएं और अगर आपका इस लेख से कोई प्रश्न या सुझाव है तो हमें जरूर बताएं। और दोस्तों अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और कमेंट करें और दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना से संबंधित FAQ

अंतरजातीय विवाह के लिए सरकारी पैसा क्या है?

कानूनी अंतरजातीय विवाह के लिए प्रोत्साहन राशि रु. प्रति विवाह 2.50 लाख ।। 10 रुपये के गैर-न्यायिक स्टाम्प पेपर पर पूर्व-मुद्रांकित रसीद प्राप्त करें।

राजस्थान में अंतरजातीय विवाह का दावा कैसे करें?

दंपत्ति रुपयों का दावा कर महंगा। घरेलू सामान की खरीद के लिए विवाह पंजीकरण के लिए एक साल का शुल्क 2.5 लाख रु. पूर्व-आवश्यकताएँ:- सभी अवलोकन स्कैन किए जाने चाहिए। – वेबसाइट लॉन्च करें ।।

मैं अंतरजातीय विवाह के पैसे का दावा कैसे करूं?

नागरिक विवाह के मामले में आवेदन के साथ जिला मजिस्ट्रेट का प्रमाण पत्र या तहसील दार/एसडीएम से पंजीकृत प्रमाण पत्र संलग्न होना चाहिए। जिला कल्याण वैल्यूएबल आवेदन एवं स्थान में ली गई खरीदी का सत्यापन करेंगे। जिला कल्याण राशीविकल्पी.

अंतरजातीय विवाह का क्या फ़ायदा है?

ऐसा माना जाता है कि किसी अलग जाति के व्यक्ति से शादी करने का मतलब नई पढ़ाई है ।। आप सीखेंगे कि एक निश्चित संस्कृति कैसी है, उनके रहने के तरीके और उनका खान-पान भी। अलग-अलग उत्सव का भी मौका मिलेगा, जिसका मतलब है कि घर पर अधिक मज़ा और उत्सव। इससे जीवन एक सुखद यात्रा बन जाता है।

Leave a Comment